Tuesday, August 16, 2022

कुशीनगर में धूमधाम से मनाई गई सम्राट अशोक की जयंती:सम्राट अशोक के कालखंड मे भारत कही जाती थी सोने की चिड़िया

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

कुशीनगर में सम्राट अशोक की 2326 वीं जयंती पर कुशवाहा शाक्य सैनी मौर्य महासभा द्वारा पडरौना नगर के जूनियर हाई के प्रांगण मे आयोजित किया गया।

राष्ट्र वंदना के साथ-साथ संविधान की शपथ दोहराई

कार्यक्रम का शुभारंभ राष्ट्रीय ध्वज फहराकर किया गया। उसके बाद भारतीय इण्टरमीडिएट कालेज की छात्रा कृतिका ने राष्ट्र वंदना के साथ-साथ संविधान की शपथ दोहराई। तत्पश्चात अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित किया गया। समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे एन. पी. कुशवाहा ने अशोक महान के बताए हुए मार्ग पर चलने का आह्वान करते हुए कहा अखण्ड भारत का निर्माण तभी संभव है जब हम एकजुट होकर राष्ट्र के प्रति चिंतन व विचार करे।

सम्राट अशोक महान मौर्य वंश के वह कुलदीपक थे

कुशवाहा शाक्य सैनी मौर्य महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व लोकसभा प्रत्याशी एनपी कुशवाहा ने कहा कि मौर्य राजवंश के चक्रवर्ती सम्राट अशोक महान ने अखण्ड भारत पर राज्य किया उनका साम्राज्य उत्तर मे हिन्दुकुश की श्रेणी से लेकर दक्षिण मे गोदावरी नदी पूरब मे बांग्लादेश से पश्चिम मे अफगानिस्तान, ईरान फैला हुआ था।अखंड भारत के संस्थापक तथा एशिया महादीप के सबसे बड़े भूभाग पर मानवता मुलक समरस समाज की स्थापना करने वाले सम्राट अशोक के कालखंड में ही भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था। आज यह सोने की चिड़िया नहीं रह गया है।

सम्राट अशोक महान मौर्य वंश के वह कुलदीपक थे जिन्होंने अपने कृत्यों से कुल, वंश व समुदाय को ही नहीं वरन् देश व दुनिया को सत्य व अहिंसा का पाठ पढ़ाया। यह कि आज का संपूर्ण भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, नेपाल,बांग्लादेश, भूटान, म्यांमार के अधिकांश भूभाग पर चक्रवर्ती सम्राट अशोक का राज्य था। उन्होने इस कार्यक्रम को संगठन के संस्थापक दिवंगत चंद्रभान को समर्पित करते हुए कहा कि कुशवाहा समाज का गौरवशाली इतिहास है। पूर्व के इतिहासकारो ने हमे रोटी, कपडा और मकान तक हमे उलझाकर रखा। तथागत के अप्प दीपो भव: से हमे दूर रखा। पूर्व राज्य मंत्री भदंत नंद रत्न ने सम्राट अशोक के जीवन चरित्र और अखंड भारत का वृहद साम्राज्य पर विस्तार से प्रकाश डाला।

कार्यक्रम को को संगठन के प्रदेश अध्यक्ष परशुराम कुशवाहा, जिलाध्यक्ष रामप्रताप कुशवाहा,रामाशंकर कुशवाहा, पारसनाथ कुशवाहा, लाल बहादुर कुशवाहा,अमित कुशवाहा, कमलेश कुशवाहा,राजकुमार कुशवाहा,आदि संबोधित किया।

- Advertisement -spot_img
Latest news
Related news
- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here